स्वास्थ

शवों का पर्याप्त सावधानी बरतते हुए करे अंतिम संस्कार ,जाने क्यों ?

Publish Date: 03-05-2020 Total Views :289

शवों

कोविड-19 से मरने वाले लोगों के शरीर में वायरस ज़िंदा रह सकते हैं. ऐसे में हम क्या पर्याप्त सावधानी बरतते हुए इन शवों का पूरी गरिमा से अंतिम संस्कार कर सकते हैं.पूरी दुनिया इस वक़्त कोविड-19 के भयावह दौर से गुज़र रही है. तमाम देशों से कोरोना वायरस संक्रमण से मरने वालों की बेहद उदास करने वाली तस्वीरें आ रही हैं. ऐसी लाशें, जिनके नज़दीक उनके अपने भी मौजूद नहीं हैं.कोरोना के शिकार हुए इन मरीज़ों की लाशें देखकर सिहरन पैदा होती है. यह मंज़र मौत और मरने वाले दोनों के प्रति डर पैदा करता है.एक बड़ा डर इन लाशों के पोस्टमार्टम से संक्रमण फैलने का है. क्या कोरोना मरीज़ के शवों से संक्रमण फैल सकता है? क्या इन शवों को जला देना चाहिए या फिर इन्हें दफ़नाया जाना चाहिए? आइए, जानते हैं कि तथ्य क्या हैं?

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के मुताबिक़ जब तक ज़रूरी सावधानियां बरती जाएं तब तक मरीज़ों के शवों से संक्रमण फैलने का कोई खतरा नहीं है.इस बीमारी के लिए ज़िम्मेदार Sars-CoV-2 वायरस लोगों की छींक या खांसी या बोलने पर निकले ड्रॉपलेट्स (कण) से फैलता है. हालांकि यह किसी ठोस सतह पर कई दिनों तक ज़िंदा रह सकता है.पैन-अमेरिकन हेल्थ ऑर्गेनाइज़ेशन (PAHO/WHO) के प्रवक्ता विलियम एडु-क्रो ने इस महीने की शुरुआत में कहा था कि लाशों से जीवित लोगों में लक्षण फैलने का कोई प्रमाण अभी तक नहीं मिला है.