राज्य

ललितपुर- बंदी ने जेलर पर लगाए मारपीट के आरोप, न्यायाधीश ने जेलर को किया तलब

Publish Date: 05-12-2018 Total Views :20

ललितपुर-



ललितपुर। चर्चित सैक्स रैकेट प्रकरण में जिला कारागार में एक अभियुक्त ने न्यायालय में पेशी के दौरान एडीजे को एक शिकायती पत्र देकर जेलर पर रुपये मांगने, मैला उठवाने, रुपए न देने पर खाना नहीं देने जैसे गंभीर आरोप लगाए हैं। जिस पर न्यायालय ने जिला जेल के जेलर को पांच दिसंबर को न्यायालय में तलब किया है। 
जिला कारागार में बंदियों से मारपीट और उन्हें तरह-तरह से प्रताड़ित करने के मामले आए दिन सामने आते रहते हैं। ढाई माह पूर्व ही एक ऐसा ही मामला तब सामने आया था, जब पैसों की मांग को लेकर प्रताड़िना के दौरान एक बंदी की मौत तक हो गई थी। जिसके चलते उक्त बंदी के परिजनों द्वारा जेल प्रशासन पर गंभीर आरोप लगाते हुए ब्याना नाले पर शव को रोककर जाम लगाते हुए जांच की मांग की थी। अब जेल प्रशासन की प्रताड़ना का एक और मामला सामने आया है, जब चर्चित सैक्स रैकेट प्रकरण में आरोपी बंदी राहुल नायक उर्फ राही पुत्र राजनायक ने मंगलवार को न्यायालय में पेशी के दौरान अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश को एक शिकायती पत्र देकर जिला कारागार में निरुद्घ होने के दौरान उससे रुपयों की मांग करने, रुपयों की मांग पूरी न होने पर खाना नहीं देने, मैला उठवाने, पेड़ से बांधकर मारपीट करने जैसे गंभीर आरोप लगाए हैं। पीड़ित बंदी ने न्यायालय में अपने जख्म भी दिखाए। जिस पर न्यायाधीश ने जेलर को उक्त मामले में पांच दिसंबर को सुबह साढ़े दस बजे न्यायालय में तलब किया है। साथ ही न्यायाधीश ने बंदी का चिकित्सीय परीक्षण कराने के आदेश भी दिए हैं। जेल प्रशासन पर इस प्रकार के आरोप बंदी द्वारा लगाए जाने पर जेल में बंदियों व कैदियों की सुरक्षा एक बार फिर सवालों के घेरे में आ गई। वहीं अभियुक्त के अधिवक्ता ने बताया बंदी ने मंगलवार को न्यायालय में पेशी के दौरान अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश को खुद शिकायती पत्र देकर जिला कारागार में मारपीट व विभिन्न प्रकार के प्रताड़ित करने के आरोप लगाए हैं। जिस पर न्यायाधीश ने जेलर को पांच दिसंबर को न्यायालय में तलब किया है। 

बंदी के साथ किसी ने मारपीट नहीं की है। कैदियों के विवाद होने पर बंदी की बैरक को बदला था। इस कारण वह कुछ संदिग्ध लोगों के कहने पर इस तरह के आरोप लगा रहा है। बंदी द्वारा दिखाए गए जख्म मारपीट के नहीं हैं वह उसने खुद ही या अपने सहयोगियों के माध्यम से बनाए हैं। कोर्ट में बुधवार को पेश होने का आदेश प्राप्त हुआ है। कोर्ट जाकर अपना पक्ष रखा जाएगा। बंदी की ओर से लगाए गए सभी आरोप निराधार हैं। 

news source by -amarujala.com