राज्य

कुंभ विकास कार्यों को प्रमुखता से लागू कराए सरकार-स्वामी सोमेश्वरानन्द गिरी

Publish Date: 15-10-2020 Total Views :9

कुंभ

हरिद्वार,  निरंजनी अखाड़े वरिष्ठ महामण्डलेश्वर व शंकराचार्य आश्रम के परमाध्यक्ष म.म.स्वामी सोमेश्वरानन्द गिरी महाराज ने कहा है कि बैरागी कैम्प के समग्र विकास के लिए सरकार को ठोस नीति बनानी चाहिए। सरकार को तुरंत कार्ययोजनाएं तैयार कर कुंभ मेले की तैयारियों मे जुट जाना चाहिए। कुंभ मेले में कुछ ही समय शेष बचा हुआ है। कुंभ मेला अधिकारी अखाड़े आश्रमों मठ मंदिरों के प्रबंधकों से वार्ता कर समस्याओं का निस्तारण करें। बैरागी कैंप क्षेत्र में बड़ी संख्या में कुंभ मेले के दौरान संत महापुरूषों का निवास होता है। संत महापुरूषों की सुविधाओं को ध्यान में रखते हुए बिजली, पानी, पथ प्रकाश, शौचालय व पार्किंग स्थलों का अतिशीघ्र व्यवस्था की जानी चाहिए। बैरागी कैंप क्षेत्र में संत महापुरूषों के शिविर स्थापित होते हैं। जमीनों का आवंटन भी कुंभ मेला प्रशासन को जल्द से जल्द करना होगा। उन्होंने कहा कि कोरोना काल के चलते सरकार अपने निर्देशों को लागू करते हुए कुंभ विकास कार्यों को प्रमुखता से लागू कराए। संत महापुरूषों की सुविधाओं को ध्यान में रखकर विकास कार्य प्रमुखता से किए जाने चाहिए। सड़कें गड्ढा मुक्त की जाएं। जिन सड़कों के निर्माण होने हैं। उन सड़कों का निर्माण तेजी के साथ किया जाए। राज्य एवं केंद्र सरकार को समन्वय स्थापित कर आस्था के इस पर्व को भव्य, दिव्य व आलोकिक बनाए रखने के लिए रणनीति के तहत युद्ध स्तर से जुट जाना चाहिए। देश विदेश से श्रद्धालु भक्त कुंभ मेले में पहुंचते हैं। सुविधाओं को ध्यान में रखकर ही निर्माण कार्य किए जाने चाहिए। उन्होंने यह भी कहा कि कुंभ क्षेत्र से अवैध अतिक्रमण को हटाया जाए। कुंभ मेला अधिकारी संत महापुरूषों से समन्वय स्थापित कर कुंभ मेले को संकुशल संपन्न कराने के लिए विचार विमर्श करें। कुंभ मेले के आयोजन में थोड़ा ही समय शेष है। आधे अधूरे निर्माण भी पूरे किए जाने चाहिए। उन्होंने महाराष्ट्र सरकार से अपील करते हुए कहा कि कोरोना काल में सरकार के दिशा निर्देशों का अनुपालन करते हुए मठ मंदिर व पौराणिक सिद्ध पीठों को खोला जाना चाहिए। सरकार को इस ओर सकारात्मक कदम उठाए जाने की आवश्यकता है। देश भर में मठ मंदिर श्रद्धालु भक्तों के लिए खोल दिए गए हैं। उन्होंने श्रद्धालु भक्तों से भी अपील करते हुए कहा कि मास्क, सेनेटाईजर व सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए मंदिरों में दर्शन के लिए पहुंचे।